गौहत्या पर बैन से परेशान दलित और किसान | Quint Hindi

Related Videos
By: UCC0sKVb7btEKzlQ05pJcvTA
Video Discription: जब पशुओं की हत्या पर बैन लगाया गया, तो कहा गया था कि इससे पशुओं को दुर्व्यवहार से बचाया जा सकेगा. हालांकि यूपी में जयापुर, वाराणसी के 72 साल के किसान कन्हैया लाल ने क्विंट को बताया कि बूचड़खाने में भले नहीं लेकिन फिर भी गायों और बैलों को मारा जा रहा है. मई 2017 में पर्यावरण मंत्रालय के नोटिफिकेशन के 2 दिन बाद सुप्रीम कोर्ट ने इस बैन पर रोक लगाई, लेकिन तब तक नुकसान होना शुरू हो चुका था. वाराणसी जिले के एक गांव में दलितों ने गांव छोड़कर जाना शुरू कर दिया. क्योंकि उनका तो पेशा ही था मरे हुए जानवरों निपटारा करना. Click here to subscribe for latest Hindi news http://bit.ly/2yfXYoK देश दुनिया की ताज़ा खबरें अब आपके स्मार्टफोन पर, एक नए अंदाज में. ज्यादा जानकारी के लिए आइए हमारी वेबसाइट https://hindi.thequint.com पर | चैनल सब्सक्राइब करें: https://goo.gl/fHiWJF फेसबुक पर जुड़िए: https://www.fb.com/quinthindi/ ट्विटर पर फॉलो कीजिए: https://twitter.com/QuintHindi The Quint का App डाउनलोड करें: https://goo.gl/yxpZ6Q फेसबुक पेज लाइक करें: https://goo.gl/Z49Y3B

--

Video Just Watched

Dailymotion.com

Youtube.com